दलितों पर बढ़ रहे चौतरफा हमला के खिलाफ पलामू एसपी (SP) के खिलाफ प्रर्दश

Spread the love

आशीष कुमार की रिपोर्ट

*दलितों पर बढ़ रहे चौतरफा हमला के खिलाफ पलामू एसपी (SP) के खिलाफ प्रर्दशन!*

भारत में शुरुवाती से ही सामंती वर्चस्व स्थापित रहा है.सामंती वर्चस्व को मिटाने के लिए कई लोगों की शहादते भी हुई है. इसके बावजूद आजादी के 75 वर्ष के बाद भी दलितों पर चौतरफा हमला बढ़े हैं। हाल के दिनों में पलामू के दलित समुदायों (एससी एसटी) पर जुल्म की कई घटनाएं तेजी से बढ़ी है. 29 मई 2022 को चैनपुर के बरांव में भुइयां जाति के साथ मारपीट होती है व हत्या करने की कोशिश की जाति हैं.9 मई को नौडीहा बाजार प्रखंड का डुमरी गांव के ललन पासवान का घर दिनदहाड़े बुल्डोजर से ढाह दी जाती है. 20 मार्च को पड़वा प्रखंड का बटसारा गांव में दलित जाति के साथ मारपीट व घर में लगे बोलेरो गाड़ी तोड़फोड़ की जाती है.18 जून 2022 को छतरपुर का साढ़मा गांव गुलाबचंद कॉलेज के बगल में दलित लड़की के साथ छेड़खानी किया जाता है. विरोध करने पर बेल्ट से निर्मम पिटाई की जाती है. इसी तरह पलामू के अलग-अलग हिस्सों में दलित आदिवासी समुदाय पर लगातार हमला बढ़े हैं। उपरोक्त घटनाओं में पुलिस निष्पक्ष जांच करने दोषियों को गिरफ्तार करने के बजाय शोषित उत्पीड़ित होने वाले पर उल्टा मुकदमा कर आरोपित के पक्ष में खड़ी है। झारखंड की जनता ने रघुवर सरकार को हटाकर हेमंत सरकार पर भरोसा की थी कि प्रशासनिक महकामा निष्पक्ष जांच कर आरोपियों पर करवाई करेंगी परंतु इस सरकार में भी रघुवर सरकार की तरह ही पुलिस प्रशासन काम कर रही है। निर्दोष,असहाय लोगों को फंसाया जा रहा हैं झूठा मुकदमा कर निर्दोष लोगों को जेल भेजा जा रहा है और दोषियों पर कार्रवाई करने के बजाय पक्ष में खड़ा होकर वकालत कर रही है। इस मुद्दे पर जनता का भरोसा उठ गया है। सभी घटनाओं आंदोलन करना पड़ रहा हैं। तब पुलिस प्रशासन काम कर रही हैं। पुलिस प्रशासन की लापरवाही व नाकामी के खिलाफ आज पलामू एसपी ऑफिस के सामने कानून का तकाजा रखने वाले जुल्म अत्याचार के खिलाफ लड़ने वाले लोगों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के माध्यम से मांग की गई..
1 चैनपुर के पावपहाड़ी सहित सभी घटनाओं के दोषियों को अविलंभ गिरफ्तार करों।

2 निर्दोष लोगों पर किए गए झूठा मुकदमा जल्द वापस लो।

मौके पर सभी घटनाओं के उत्पीड़ित व उनके परिजनों के साथ भाकपा माले के राज्य स्थाई कमेटी सदस्य रविंद्र भुइयां, झारखंड राज्य दिहाड़ी मजदूर यूनियन के राजीव कुमार,एससी एसटी ओबीसी माइनॉरिटी मोर्चा के रवि पाल ,जन संग्राम मोर्चा के बिरजनंदन मेहता,झारखंड क्रांति मंच के शत्रुघन कुमार शत्रु, हुल झारखंड क्रांति दल के राजेंद्र राम,आइसा के राज्य सचिव त्रिलोकी नाथ,ऐपवा से दिव्या भगत,रसोइया संघ के अनिता देवी,अखिल भारतीय किसान महासभा के प्रदीप विश्वकर्मा, झामस के रामराज्य पासवान ललन प्रजापति सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.